रोशनी का त्यौहार दीपावली

दीपावली या दिवाली कार्तिक ( अक्टूबर-नवंबर ) के महीने में आता है। यह त्यौहार प्रमुख हिंदू त्योहारों में से एक है । यह दुनिया भर में हिंदुओं द्वारा अमावस्या के दिन मनाया जाता है। यह एक शरद ऋतु त्योहार है। इस दिन पर , दीपक जला कर ,घरों को साफ कर सजाया जाता है और लोग सद्भावना और सौहार्द के चिह्न के रूप में मिठाई वितरित करते है ।

इतिहास : - दिवाली का महत्व और इस त्योहार का विवरण पद्म और स्कंद पुराण के साथ ही विभिन्न उपनिषदों में दर्ज है । विभिन्न किंवदंतियों में से विभिन्न युगों ( पौराणिक युग ) में घटनाओं को इस त्योहार के साथ जोड़ा हैं। उनमें से कुछ नीचे उल्लेख किये गए हैं -

१. रामायण के युग में राजा दशरथ (श्री राम के पिता) अपनी दूसरी पत्नी कैकेयी की साजिश के सिद्धांत में फस कर श्री राम को १४ वर्षो के वनवास के लिए निर्वासितकिया । श्री राम १४ साल के लंबे अंतराल के लिए निर्वासन में बने रहे। इस समय के दौरान उनहे विभिन्न कठिनाईयो का सामना करना पड़ा और कई बुरी ताकतों का सामना करना पड़ा । हर बुराई को मिटाकर श्री राम अयोध्या के लिए अपनी पत्नी और भाई के साथ विजयी लौटे । अयोध्या की पूरी भूमि उनके प्रिय राम की वापसी पर खुशी मनाने के लिए दीपक से सज्जित हो उठी। उनकी वापसी का यह दिन , दीवाली के रूप में चिह्नित है। इस दिन पर दीपक के प्रकाश को शुभ माना जाता है और यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है ।

बंगाल में दीवाली की पूर्व संध्या पर दिए जलने की एक परंपरा है। प्रत्येक दीपक श्री राम के वनवास के प्रत्येक वर्ष का प्रतिनिधित्व करता है ।

२. ऋग्वेद हमें नचिकेता, ऋषि वाजश्रवसा के बेटे के बारे में एक कहानी बताता है। नचिकेता मुक्ति की कला सीखने और सांसारिक इच्छाओं से अपनी आत्मा को अलग करने को चाहत में थे। वे एक उत्साही ब्राह्मण थे ।

एक दिन वह अपने पिता को देवताओं को खुश करने के लिए गायों का बलिदान करते देखा। उन्होंने यह देखा कि उनके पिता कमजोर और रोगग्रस्त गायों का ही बलिदान कर रहे थे । उन्होंने अपने पिता से पुछा की क्या पिता अपने पुत्र को भी देवताओ को अर्पित कर देंगे। गुस्से में ऋषि ने कहा की वे नचिकेता को यम (मृत्यु के देवता) के लिए अर्पित करेंगे ।

तो नचिकेता यमराज के पास गए , परन्तु यम वह नहीं थे । यम लौटे जब तीन दिन बीत चुके थे। ब्राह्मण के बेटे अभी भी इंतजार करते देख यम चकित हुए । प्रसन्न होकर उन्होंने नचिकेता 3 आशीर्वादों की पेशकश की। नचिकेता ने ३ वरदानों में अपने पिता की शांति चाही , अग्नि परीक्षा के रहस्य को जाना और मृत्यु के बाद जीवन के रहस्य को समझने के लिए कहा। अनिच्छा से, यम ने समझाया की इस जीवन में बाकी सब सामग्री है, केवल आत्मा ही अमर है। याम ने नचिकेता को आत्म बोध पढ़ाया । इस सीखने पर, नचिकेता को मोक्ष प्राप्त और नश्वर पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ती प्राप्त की । यह कहानी सामग्री धन बनाम सच्चा धन का ज्ञान देती है और दीवाली के आध्यात्मिक महत्व को दर्शाती है।

३. भारत के कुछ भागों में नरकासुर की एक पौराणिक कथा का उल्लेख किया है। नरकासुर प्रागज्योतिषपुर (वर्तमान-असम) के राजा थे।वे एक दुष्ट असुर थे और महिलाओं को पकड़ने और उन्हें अपनी पत्नि बनाने के लिए प्रयास करते थे । नरकासुर गंदगी का प्रतिक या गंदगी के दानव माना जाता था। स्वर्ग के देवताओं श्री कृष्ण से नरकासुर से छुटकारा पाने के लिए बिनती की और महिलाओं को बचा लेने का निवेदन किया । श्री कृष्ण ने राक्षस के साथ लड़ाई लड़ी और उसे मार डाला। मौत के समय,असुर ने "हर कोई मेरी मृत्यु पर आनंद मनाये " यह वरदान माँगा । भगवान कृष्ण ने उसे वरदान दिया।

जब श्री कृष्णा वह महिलाओं को बचाने के लिए गए तब महिलाओ ने यह कहा की राक्षस के साथ रहने से वे अपवित्र हो गयी है । वे सभ्य समाज के लिए योग्य नहीं रही और कोई भी कभी उनसे शादी नहीं करेगा । इस शर्म से उन्हें बचाने के क्रम में भगवान कृष्ण उन सबको अपनी पत्नी बनाने का निर्णय लिया। इस तरह १६०० महिलाओ कृष्ण की पत्नियों के रूप में सम्मान की जगह बहाल हुई ।

श्री कृष्ण घर लौटे तो वे पूरी तरह से असुर राज की गन्दगी से ढके हुए थे । इसलिए विशेष चंदन का लेप बनाया गया सुगंधित तेलों से स्नान करवाया गया। आज तक, तेल या चंदन के लेप के साथ सुबह जल्दी स्नान करना दिवाली के अनुष्ठान दीवाली का अभूतपूर्व अंग है।

४. अन्य धार्मिक समुदायों के बीच भी दीवाली अलग अलग कारणों के लिए मनाई जाती है : जैन धर्म में, यह दिन भगवान महावीर के निर्वाणा ( आध्यात्मिक जागृति ) का प्रतीक है। सिख धर्म में गुरु हरगोबिंद जी , छठवे सिख गुरु कारावास से मुक्त इसी दिन पर किये गए थे।

दीवाली के पांच महत्वपूर्ण दिन: -

धनतेरस - त्रयोदशी के दिन (तेरहवे चन का दिन) भगवान धन्वन्तरि के आयुर्वेद विज्ञानं के समुद्र से बहार लेन का दिन है। इस दिन लोग दिए की रोशनी कर , उनके परिवारों के लिए नया सामान खरीदने ,असामयिक मृत्यु से बचने के लिए यम से प्रार्थना करते है।

नरक चतुर्दशी: - यह दिन छोटी दीवाली या चौदह प्रदीप (बंगाली में 14दिए ) के दिन के रूप में जाना जाता है। यह दिन नरकासुर पर श्री कृष्णा की विजय का दिन है।

लक्ष्मी पूजा: - यह दिवाली का मुख्य दिन है। इस दिन लोग फूलों के साथ घरों और वाहनों को सजाते है। रंगोली (रंगीन रेत के साथ किए गए कलाकृतियां बनाते हैं और पूरा परिवार लक्ष्मी पूजा, धन की देवी के लिए एक प्रार्थना के लिए एक साथ इकट्ठा होते हैं। दावतें आयोजित कर आतिशबाजी से इस दिन को मनाते हैं।

यह भी कहा जाता है कि इस दिन, सीता को बचाकर और दानव, रावण को मारने के बाद भगवान राम, अयोध्या लौटे थे । भारत के कुछ हिस्सों में रावण के पुतले के जलने के साथ रामलीला (श्री राम की कहानी) दर्शाई जाती है।

भारत के कुछ पूर्वी राज्यों में, काली पूजा आधी रात में किया जाता है। नेपाल और उत्तरी बिहार के क्षेत्रों में महनीषा पूजा करते है। हर क्षेत्र में शक्ति की देवीके लिए श्रद्धा का भुगतान करने का अपना तरीका होता है।

बाली प्रतिपदा: - भगवान विष्णु के अवतार (वामन) ने इसी दिन दानव राजा बाली को पाताललोक भेजा। इस दिन पर गोवर्धन पूजा, श्री विष्णु के अवतार कृष्ण से प्रार्थना करने के लिए किया जाता है। गोवर्धन पूजा में गायों की पूजा की जाती है क्युकी श्री कृष्ण यादव (गाय चरवाहों) वंश के थे । कई घरो में प्रतीकात्मक रूप में पासा या ताश के खेल जो भगवान शिव ने अपनी पत्नी पार्वती के साथ खेला करते थे, आयोिजत किया जाता है ।

इस दिन भी देश के कुछ हिस्सों मेंपाडवा या नए साल के रूप में जाना जाता है। व्यवसायि अपने बही खातों की पूजा कर नएखातों के साथ साल की शुरूआत करते हैं। तमिलनाडु और कर्नाटक के लोगों, केदारगौरी व्रतम् किया जाता है।

भाई दूज: - कहा जाता है यह इस दिन पर, मृत्यु के देवता यम ने अपनी बहन यमुना के घर का दौरा किया। यमुना ने अपने भाई का स्वागत किया और उसके आतिथ्य से यम देव ने खुश होकर "आज के दिन अगर कोई भाई अपनी बेहेन के घर आएगा तो वह पापमुक्त हो जायेगा और यम के प्रकोप से परिरक्षित किया जाएगा"ऐसा आशीर्वाद दिया ।

आज तक इस दिन पर बहने को अपने भाइयों के अच्छे स्वास्थ्य, सफलता और सुरक्षा के लिए प्रार्थना करटी हैं। भाइयों के माथे पर तिलक (पवित्र चिह्न) लगाती है।

बंगाल में यह तिलक लगते समय एक कविता है जो बहने उच्चार करती है-

দিতিয়া এ দিয়া ফোটা , তৃতীয়া তে দিয়া নিতা
আজ হতে ভাই আমার না যাও যমের পারা
যমুনা দেয়ে জমেরে ফোটা আমি দি আমার ভাই কে ফোটা
ঢাক বাজে ঢোল বাজে আর বাজে করা
আজ হতে ভাই আমার না যাও যমের পারা
স্বর্গ মর্ত দুলিয়া বকুল
না যাইও ভাই গঙ্গের অকুল
যমুনা দেয়ে জমেরে ফোটা আমি দি আমার ভাই কে ফোটা
আজ হতে ভাই আমার জম দুয়ারের কাঁটা

 

इसका अर्थ है - "इस तिलक को अपने भाई के माथे पर लगाते समय यमदेव के द्वार पर एक काँटा गिरे। ढाक , ढोल बजे पर मेरा भाई याम के द्वारे न जाये। स्वर्ग धरती या सुंगन्धि फूलो के आकर्षण के लिए भी मेरा भाई उस पार नहीं जाये। इस तिलक के साथ यमदेव की नज़रे कभी मेरे भाई पर न पड़े। यमुना के भाई की जितनी उम्र हो मेरे भाई की भी आयु उतनी ही रहे।

Image Courtesy: Wikipedia Images

 

Address

  • रोशनी का त्यौहार दीपावली
    Universe

    Universe, Universe - 000000
  • Media

Most Read Articles