हरे कृष्ण संचार राधा कालचन्दजी मंदिर

हरे कृष्ण संचार या कृष्ण भक्तो को इस्कॉन के रूप में दुनिया भर में जाना जाता है। बोलचाल की भाषा में संक्षिप्त रूप ISCKON का ही प्रयोग किया जाता है। यह अंतर्राष्ट्रीय कृष्ण भक्तो का गुट है। यह भक्तिवेदांत स्वामी द्वारा १९६६ में स्थापित किया गया है और वैष्णवों के एक धार्मिक संगठन हो गया है।

इससमूह के अनुयायियों को "भक्तों" के नाम से जाना जाता है। ये गौड़ वैष्णव उप संप्रदाय से संबंधित है।उनका मुख्य उद्देश्य भगवान कृष्ण को खुश करने के काम है। ISCKONकी आज दुनिया भर में 500 से अधिक शाखाएं हैं और अपने कई स्कूलों और रेस्तरां भी है।

इतिहास :- श्री कृष्णा एक साँवले स्वरूपित प्रभु माने जाते है। कलाचन्द का अर्थ है सुन्दर सावले चाँद स्वरूपित देव। । मुगलों ने भारत पर आक्रमण करने से पहले, कलाचंद जी एक प्रतिष्ठित देवता थे। आक्रमण के दौरान श्रद्धालुओं ने सभी मूर्तियों को छिपा दिया और इनकी पूजा धीरे धीरे लुप्त हो गयी ।

स्वामी भक्ति वेदांत, एक कृष्णा अनुयायी, ने अमेरिका के न्यूयॉर्क में ISCKON धर्म की स्थापना की; तक जाकर भगवान को दुनिया के दूसरे छोड़ पर एक नया घर प्राप्त हुआ।

मुख्य देवता: - श्री कृष्ण विष्णु के अवतार है। हरे कृष्णा धर्म के लोग ये मानते है की वे एक सच्चे प्रभु है। इस समूह में लोग मानते है की भगवान एक व्यक्ति ​​है। और यही जीवन का एक अद्वैतवादी तरीका है। वे शाकाहार और भक्ति योग (भक्ति सेवा) में विश्वास रखते है । उन्होंने देवी राधा को श्री कृष्ण की सच्ची सहचरी माना है।

अमेरिका के टेक्सास राज्य के शहर , डलास में, ISCKON सिद्धांतों पर आधारित एक मंदिर मौजूद है। इस मंदिर में राधा-कालचन्दजी मंदिर के रूप में जाना जाता है।

डलास मंदिर में मूर्ति काले संगमरमर से बनी है और एक बहुत पुरानी मूर्ति है। यह मंदिर बाद में वर्ष 1971 में बनाया गया था और 1979 में पुनर्निर्मित किया गया था।

मंदिर हिंदू पौराणिक कथाओं से लिए गए विभिन्न चित्रों और मूर्तियों के साथ सजाया गया है।

विशेषता: - मंदिर में पूजा के वैदिक मानकों का पालन करती। वे सेवा के माध्यम से आध्यात्मिक ज्ञान में विश्वास करते हैं।

इस मंदिर के दौरे पर एक शांतिपूर्ण वातावरण में मंत्रमुग्ध हो जाने का आभास होता है । हरे कृष्ण जाप और भजन के सुर एक आध्यात्मिक माहौल बनाने का काम करते है।

प्रत्येक रविवार एक भोजन कार्यक्रम आयोजित किया जाता है जिसमे लोगो को निशुल्क भोजन दिया जाता है । विशेष भजन और आरती इस दिन पर आयोजित की जाती हैं।

अन्य मंदिरों की तरह, विभिन्न वैदिक सेवाएं (संस्कार), पूजा औरहवन सहित मंदिर में की किये जाते हैं। इन सेवाओं के लिए कुछ नाम विवाह संस्कार , नामकरण संस्कार, अन्न प्राशन (पहले ठोस आहार का सेवन), कर्णवेधन ,विद्यारम्भ (पहला अक्षर) शामिल हैं।

स्वामी श्रील प्रभुपाद, इस मंदिर के संस्थापक यह चाहते थे की इस मंदिर के 10 मील के दायरे में कोई भी व्यक्ति कभी भूखा नहीं जाना चाहिए। इसलिए मंदिर जरूरतमंद लोगों को भोजन वितरित करता है.इस योजना का नाम फ़ूड फॉर लाइफ - या जीवन भर भोजन है। यह कार्यक्रम मंदिर के भक्तो और संरक्षक से दान के द्वारा वित्त पोषित है।

मंदिर आध्यात्मिकता, वैदिक दर्शन और परंपराओं के बारे में और अधिक जानने में रुचि रखने वाले लोगों के लिए भगवद् गीताकी कक्षाये प्रदान करता है। मंदिर के दर्शन के अभिलषिओ के लिए टूर भी उपलब्ध है । यहाँ डलास में और आसपास के शहरो में रहने वाले लोगों के घरों पर कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जा सकता है।

कालचन्दजी के भोजनालय - अहिंसा के धर्म को मानने वाले ISCKON समुदाय में आयुर्वेद की प्रथाओं से पवित्र खाना पकाने की तकनीक है । यह एकशुद्ध शाकाहारीभोजनालय है। यहाँ के सर्वोत्तम शेफ (रसोईकार ) , ने इस पद्धति से शाकाहारी खाना बनाने की विधिओ पर कई पुस्तके लिखी है।

लोकप्रिय त्योहार / यात्रा के सर्वोत्तम दिन : - कृष्णाजन्माष्टमी , एकादशी, गोवर्धन पूजा, रथ यात्रा और होली। रविवार को पूजा काफी विस्तृत होती है और इस दिन की यात्रा जरूर करे।

मंदिर में 4:30 पर सुबह आरती और शाम (संध्या) आरती 8 बजे होती है

दिशा निर्देश :- Kalachandji's Hare Krishna Temple,5466 Gurley Ave, Dallas, Texas

Address

  • हरे कृष्ण संचार राधा कालचन्दजी मंदिर
    5430 Gurley Ave, Dallas

    Dallas, Texas - 75223
  • +1-214-8276330
  • Website: www.radhakalachandji.com

Timings

Day Timings
  • Media

Most Read Articles