नर्तिआंग दुर्गा मंदिर मेघालय सात बहनो का राज्य 5

जैंतिया पर्वतो में स्थित, नर्तिआंग एक बोहोत सुन्दर जगह है। इस जगह के बाद से को स्तम्भो का बागान कहा जाता है , क्युकी यहाँ हर जगह कई बिखरे हुए पत्थर के स्तम्भ है । यह जगह जयंतिया राजाओं की ग्रीष्मकालीन राजधानी था ।

इस शहर में, एक प्राचीन (लगभग 500 साल पुराना ) दुर्गा मंदिर मौजूद है। यह मंदिर शक्ति पीठो का हिस्सा है। कहा जाता है यहाँ सती की बाईं जांघ गिरी थी । यह मंदिर जयंतिया शासन के तहत 16 वीं सदी में बनाया गया था ।

मुख्य देवता - किसी भी अन्य शक्ति मंदिर की तरह है, यहाँ मुख्य देवता देवी दुर्गा है । पास में एक शिव मंदिर भी है।

इतिहास -देवी पार्वती के पिता , दक्ष ने अपने यज्ञ के समय भगवान शिव को आमंत्रित नहीं किया। पार्वती अपने पति के अपमान पर गुस्से में यज्ञ आग में कूद गयी । भगवान शिव उग्र हो गए और सती के जलते शरीर को लेकर विनाश (तांडव ) नृत्य करने लगे । भगवान विष्णु ने अपने चक्र से दुर्गा के मृत शरीर के टुकड़े कर दिए । इन टुकड़ों को बाद में मंदिरों (शक्ति पीठो ) में विकसित किया गया। दुनिया के विभिन्न भागों में ये टुकड़े गिरे है। जयंतिया हिल्स में नरतियांग पर, यह देवी दुर्गा की बाईं जांघ गिर गया है कि माना जाता है। इसलिए , स्थानीय स्तर पर देवी ' जैनतेश्वरी ' के रूप में जानी जाती है।

एक अन्य कहानी जयंतिया राजा जसो माणिक की है जिनकी शादी हिंदू कोच राजा नर नारायण की बेटी लक्ष्मी नारायण से हुई थी । यह हिंदू- जयंतिया शादी जयंतिया शाही परिवार हिंदू धर्म स्वीकार करने के कारण है। ये भी कहा जाता है की देवी दुर्गा , जसो माणिक के सपने में आई और उनसे एक मंदिर खड़ा करने के लिए कहा था।

वास्तुकला - यह मंदिर एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। मंदिर से नदी म्युंदु को देख सकते हैं । मंदिर के तहखाने " बोली गर्भ" या बलि घाट है । यह बलि का स्थान एक सुरंग द्वारा नदी से जुड़ा है।

नर्तिआंग मंदिर से पथरीले स्तम्भो का नजारा दिखता है । मूल रूप से मंदिर खासी लोगों के घरों के समान है, जो फूस के छप्पर वाले घर होते है । बाद में रामकृष्ण मिशन पर टिन की छत और स्थायी ढांचा बनाकर मंदिर का पुनर्विकास संभाल लिया है।

विशेषताए - इस मंदिर ने जयंतीआ राजाओं की प्राचीन बंदूकें है।

इस मंदिर में मानव बलि से १९ वीं सदी तक प्रचलित थी । माना जाता है बलि का सिर सुरंग के माध्यम से नदी में लुढ़क जाता था । आज कल यहाँ एक बकरी या मुर्गे की बलि होती है जिसे एक मानव मुखौटापहनाया जाता है।

जयंतिया परिवार और इस मंदिर के मुख्य संरक्षक के वर्तमान वंशज को "स्येइम" कहा जाता है।

इस मंदिर की पूजा सामान्य वैदिक अनुष्ठानों से अलग है और हिंदू और प्राचीन खासी परंपराओं का मिश्रण है।

यहाँ के पत्थर के स्तम्भ पुरुष (मेहनीर) - ऊँचे सीधे खम्बे और महिला (दोल्मेन ) - सपाट समतल खम्बे के रूप में है। इनमे से कुछ १५०० ईसवी में बने है। सबसे ऊंची मेहनीर मू लांग स्येइम के रूप में जाना जाता है। यह ८ मीटर ऊंची और १८ इंच मोटी है। यह यू मार फलिंगकी , एक महान योद्धा और जयंतिया लेफ्टिनेंट के नाम से बानी है।

इस मंदिर के पुजारी एक ही परिवार के हैं। पुजारी पीढ़ी से पीढ़ी बदलते है।

त्योहार - दुर्गा पूजा यहां सबसे बड़ा त्योहार है । पूरे मंदिर ताजा गेंदा फूलों से सजाया जाता है और देवी को नए कपड़े से सजाते है । जैंतिया लोगों के खासी लोगो में यह देवी की केवल मूर्तियों की पूजा करना आवश्यक नहीं है। उत्सव मूर्ति या औपचारिक मूर्ति , एक केले के पेड़ के तने से बनाई जाती है और फिर पूजा के बाद विसर्जन के लिए म्युंदु नदी में ले जाते है।

दिशा निर्देश - नरतियांग पूर्व की दिशा में शिलांग से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर है।

निकटवर्ती स्थान -
1. बाजार केंद्र में स्तम्भ
2. सहमई मंदिर
3. थडलस्किएन झील

Image Courtesy - megtourism.gov.in/dest-jaintia.html

Address

  • नर्तिआंग दुर्गा मंदिर मेघालय सात बहनो का राज्य 5
    Tiang town

    Jowai, Meghalaya - 793150
  • Website: megtourism.gov.in/dest-jaintia.html
  • Media

Most Read Articles