सूर्य देवता को अर्पित मंदिर जम्मू और कश्मीर भारत

स्थान : जम्मू एवं कश्मीर के भारतीय राज्य में अनंतनाग से लगभग 5 मील की दूरी पर ।

मुख्य देवता : यह मंदिर सूर्य देव को समर्पित है। संस्कृत में, मार्तंड का मतलब सूर्य है। दिलचस्प बात यह है , सूर्य नाम के - दोनों हिंदी के साथ-साथ संस्कृत में विभिन्न पद हैं। लोकप्रिय शब्दों में से कुछ इस प्रकार हैं - आदित्य , भास्कर , रवि , सूरज , दिनकर , सूर्या इत्यादि।

सूर्य भगवान के साथ ही साथ , गंगा और यमुना , श्री राम , भगवान शिव और श्री गणेश , श्री विष्णु, और देवी के लिए धार्मिक स्थलों की रचना की गयी है है।

इतिहास: - स्थानीय रूप से, इस जगह मार्तंड या मट्टन के रूप में जाना जाता है। यह भी पांडवों और कौरवों के वंशजो के लिए एक जगह है। अफसोस की बात है , आजकल यह आसपास के क्षेत्र में कुछ ही हिंदू मंदिरों रह गए है । अब यह भारतीय पुरातत्व सोसायटी के केन्द्र द्वारा संरक्षित स्मारकों का एक हिस्सा है ।

वास्तुकला: यह मंदिर करकोटा राजवंश के शासनकाल के दौरान 8 वीं शताब्दी में बनाया गया था । यह राजा ललितादित्य मुक्तपद द्वारा बनाया गया था । इस मंदिर का मुख्य आकर्षण यह है की उस ज़माने में जब कोई आधुनिक इंजीनियरिंग उपकरण नहीं थे, इस मंदिर का स्थापत्य बोहोत ही सुन्दर और आधुनिक है । मंदिर के अधिकांश अंश को अब फूटा भाग और बर्बाद माना जाता है। पर अपने अतीत के गौरव और भव्यता को इस मंदिर में आसानी से देखा जा सकता है।

मंदिर एक पहाड़ी के ऊपर बनाया गया है, और इस जगह से कश्मीर की पूरी घाटी को देख सकते हैं। यहाँ का आंगन चारों ओर से 200 फीट लंबा और 150 फुट चौड़ा है । मुख्य मंदिर केंद्र में है। कश्मीर घाटी की सुंदरता अच्छी तरह से जनि मानी है । यह मंदिर एक सुंदर साफ पानी झील से घिरा हुआ है । मंदिर के चारों ओर एक सुंदर बगीचा है जिसे सरकार के अधिकारियों द्वारा बनाए रखा है । मंदिर की दीवारों पर, विभिन्न देवताओं और प्राचीन भाषा की नक्काशियों को देखते ही बनता हैं । इस मंदिर का निर्माण अवन्तिस्वमिन औरअवन्तीपुरा के समान है ।

विशेषता: - कश्मीरी हिंदुओं की अनेको पीढ़ियां इस वेदी पर सूर्य देवता की पूजा कर चुकी है ।

मंदिर लगभगबर्बाद हो गया है, परन्तु फिर भी सूर्य पूजा के लिए पुजारी संपर्क कर सकते हैं । यह मंदिर कश्मीर में प्राचीन सभ्यता काकेंद्र है।

कुछ लोग इसे कोणार्क मंदिर और गुजरात मेंमोढेरा में बने मंदिर के बाद का निर्माण किया जाने वाला तीसरा सूर्य मंदिर मानते ​​है।

हमारे राष्ट्र में सूर्य पूजा हमेशा हिंदू प्रार्थना अनुष्ठान के प्रमुख भागों में से एक रहा है। एक भक्त अक्सर पूर्व दिशा में देख रहे हैं और निम्नलिखित श्लोक से अपने दिन की शुरुआत करता है -

ओम जैवकुसुमं शंकाशं कश्यपं महादुतिं
धन्तरिं सर्वपापघ्न प्रनतहष्मी दिवाकरम् ॥

जिसका अर्थ है "हे भगवान सूर्य , सभी बुराइयों और पापों का नाश नाश करने वाले , मैं तुम्हारे चरण में अपना शीश झुकता हु "

सूर्य नमस्कार भी पूर्ण शरीर के कसरत के लिए एक यौगिक व्यायाम हैं ।

लोकप्रिय मीडिया में चित्रण : - यह मंदिर हमेशा फिल्मों के लिए फिल्म बनाने वालो को आकर्षित करता है। कुछ उदाहरण नीचे हैं -
1. फिल्म आंधी से "तेरे बीना जिंदगी से कोई शिकवा" की शूटिंग ।
२. हाल ही में फिल्म हैदर में प्रसिद्ध गीत बिस्मिल।

दिशा निर्देश :-
सड़क मार्ग - यह मंदिरपहलगाम से लगभग 1 घंटे कीदूरी (40 के आसपास किलोमीटर) और श्रीनगर से 60 किमी दूर है। रनवीपुरा गांव से 3 किमी ऊपरपहाड़ी की ओर गाड़ी चलकर पोहोच सकते है।
वायु द्वारा - निकटतम हवाई अड्डा श्रीनगर हवाई अड्डा यासतवारी (जम्मू में) हवाई अड्डा है।
रेल द्वारा - उधमपुर , पहलगाम और राम नगर आस-पास रेल स्टेशन हैं।

निकट के स्थान: -
खीर भवानी मंदिर
मुगल बगीचा
पहलगाम गोल्फ कोर्स
बेताब घाटी

Image Courtesy:- Google Images

Address

  • सूर्य देवता को अर्पित मंदिर जम्मू और कश्मीर भारत
    Suriya Mandir Rd, Ranbir Pora

    Anantnag, Jammu and Kashmir - 192125

Timings

Day Timings
  • Media

Most Read Articles